APP समष्टि MCQ व्यष्टि 11Q.B APP DOWNLOAD करें

 

       ECONOMICS QUESTION BANK SOLUTION – 2023


       BY MANOJ SINGH PATEL CM RISE KASRAWAD


    12 वी अर्थशास्त्र महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर PDF 2023 (प्रश्न बैंक) ECONOMICS QUESTION BANK SOLUTION – 2023

                    www.SchoolEconomics.in

 12वीं अर्थशास्त्र प्रश्न उत्तर  

अर्थशास्त्र मॉडल पेपर 2023

                                                                              

इकाई-01

                                    

व्यष्टि अर्थशास्त्र का परिचय।

वस्तुनिष्ठ 2 अंक - 2 प्रश्न                          2 अंक का 1 प्रश्न

 

इकाई -1

1. व्यष्टि अर्थशास्त्र में निम्न में से किसका अध्ययन किया जाता है?

A. व्यक्तिगत इकाई   

B. राष्ट्रीय आय   

C. पूर्ण रोजगार     

D. उपरोक्त सभी

उत्तर-  व्यक्तिगत इकाई


2. एक समाजवादी अर्थव्यवस्था का मूल उद्देश्य होता है?

 A. अधिकतम उत्पादन    

B. आर्थिक स्वतंत्रता    

C. लाभ कमाना    

D. अधिकतम लोक कल्याण

उत्तर - अधिकतम लोक कल्याण


3. आर्थिक समस्या मूलतः किस तत्व की समस्या है?

 A. चुनाव की       

B. आवश्यकता की     

C. उत्पादन की      

D. उपरोक्त सभी

उत्तर -  चुनाव की


4. किस अर्थव्यवस्था में कीमत तंत्र के आधार पर निर्णय लिए जाते हैं ।

A. समाजवादी       

B. मिश्रित      

C. पूंजीवादी      

D. उपरोक्त में से कोई नहीं।

उत्तर - पूंजीवादी


5. आर्थिक समस्या मूलतः किस तत्व की समस्या है ।

A. चुनाव की     

B. आवश्यकता की    

C. उत्पादन की   

D.उपरोक्त सभी

उत्तर - चुनाव की


6. एक फर्म एक उद्योग एक वस्तु के मूल्य का अध्ययन क्षेत्र है।

A. समष्टि अर्थशास्त्र।      

B. व्यष्टि अर्थशास्त्र   

C. राष्ट्रीय आय      

D. राष्ट्रीय उत्पाद

उत्तर - A. समष्टि अर्थशास्त्र।


रिक्त स्थान

1. सभी क्रियाएं जो आय सृजित करती है................ क्रियाएं होती है।       

उत्तर - आर्थिक

2. उत्पादन संभावना वक्र ........... ढाल लिए होता है।                           

उत्तर - दाएं

3. व्यष्टि तथा समष्टि अर्थशास्त्र एक दूसरे के.......... होते हैं ।                   

पूरक

4. व्यष्टि अर्थशास्त्र का मुख्य यंत्र............ है।                                        

कीमत

5. मिश्रित अर्थव्यवस्था ............और.......... को मिलाकर बनती है।              

पूंजीवादी   समाजवादी


एक शब्द

1. भारत में कौन से आर्थिक प्रणाली अपनाई गई हैं।                

मिश्रित

2. पूंजीवादी अर्थव्यवस्था में केंद्रीय समस्याओं का समाधान किसके द्वारा किया जाता है           

बाजार तंत्र या कीमत यंत्र द्वारा

3. समाजवादी अर्थव्यवस्था में केंद्र समस्याओं का समाधान किसके द्वारा किया जाता है           

आर्थिक नियोजन प्रणाली द्वारा


सत्य / असत्य

1. साधनों किसी सीमितता की आर्थिक समस्या का मूल कारण है।       सत्य

2. हस्तक्षेप की नीति पूंजीवाद से संबंधित है।     सत्य

3. समाजवाद में केंद्रीय नियोजन अनिवार्य है।      सत्य

4. व्यष्टि तथा समष्टि अर्थशास्त्र एक दूसरे के पूरक हैं।     सत्य


2 अंक का 1 प्रश्न

1 प्रश्न - व्यष्टि अर्थशास्त्र की कहते हैं?

उत्तर - व्यष्टि अर्थशास्त्र अर्थशास्त्र की वह शाखा जो अर्थव्यवस्था के छोटे भागो एवं व्यक्तिगत आर्थिक इकाइयों जैसे एक उपभोक्ता एक उत्पादक एक परिवार एक फर्म एक उद्योग आदि का आर्थिक अध्ययन करती है व्यष्टि अर्थशास्त्र कहलाती है।


2 प्रश्न- अर्थव्यवस्था किसे कहते हैं?

उत्तर अर्थव्यवस्था किसी भी देश की आर्थिक प्रणाली है जो उस देश के आर्थिक क्रियाओं के संचालन को बताती है प्रत्येक अर्थव्यवस्था किसी किसी आर्थिक प्रणाली पर आधारित होती है। किसी देश में समस्त आर्थिक क्रियाओं का परिपथ अर्थव्यवस्था कहलाता है।


3 प्रश्न-अवसर लागत किसे कहते हैं?

प्रोफेसर कॉल के अनुसार :- "एक कार्य के चयन द्वारा विकल्प अवसर के त्याग का मूल्य कार्य विशेष की विकल्प को लागत या अवसर लागत है।"

किसी साधन की अवसर लागत से अभिप्राय उसके दूसरे सर्वश्रेष्ठ विकल्प मूल्य के त्याग से हैं।

4 प्रश्न-सीमांत उत्पादन संभावना क्या है?

उत्तर- सीमांत उत्पादन संभावना एक साधन की अवसर लागत पर निर्भर करती है। एक उत्पादन संभावना वक्र दो वस्तुओं के उन सभी संयोगों को बताता है जिनका अधिकतम उत्पादन एक अर्थव्यवस्था के लिए संभव है, जब कि संसाधनों की मात्रा स्थिर है एवं उनका पूर्ण प्रयोग हो रहा है तथा उत्पादन की तकनीक की स्थिति दी हुई है।

सेम्युलसन:-"एक उत्पादन संम्भावना वक्र चुनावों की सूची को बताता है।"


5 प्रश्न-सकारात्मक अर्थशास्त्र किसे कहते हैं?

उत्तर-सकारात्मक या वास्तविक आर्थिक विश्लेषण आर्थिक समस्याओं का "कारण" और "परिणाम" के संबंध में विश्लेषण करता है।

 वह आर्थिक विश्लेषण में क्या है  What is को बताता है क्या होना चाहिए what ought to be की बात नहीं करता।


6 प्रश्न-समष्टी अर्थशास्त्र किसे कहते हैं?

उत्तर - समष्टि अर्थशास्त्र का अर्थ

समष्टि अर्थशास्त्र, अर्थशास्त्र के आर्थिक विश्लेषण की वह शाखा है, जो जिसमें अर्थव्यवस्था के बड़े भागों का अध्ययन किया जाता है। अर्थात इसके अंतर्गत ऐसे विशाल समूह का अध्ययन किया जाता है जो संपूर्ण अर्थव्यवस्था को प्रदर्शित करते हैं जैसे कुल रोजगार , कुल आय , कुल उत्पादन, कुल विनियोग , कुल बचत , कुल उपभोग , कुल पूर्ति, कुल मांग , सामान्य कीमत स्तर इत्यादि।


          

इकाई-02

       

उपभोक्ता व्यवहार का सिद्धांत।

वस्तुनिष्ठ 2 अंक - 5 प्रश्न                          3 अंक का 2 प्रश्न         4 अंक का 1 प्रश्न


1. जब कुल उपयोगिता अधिकतम होती है , तब सीमांत उपयोगिता

A. धनात्मक होती है    

B. ऋणात्मक होती हैं      

C.  शून्य होती हैं।     

D. उपरोक्त सभी

उत्तर -  शून्य होती हैं।


2. उपयोगिता का संबंध होता है

A. लाभदाकता से      

B. मानव आवश्यकता की पूर्ति से।     

C.   नैतिकता से            

 D.  उपरोक्त में से कोई नहीं

उत्तर-   मानव आवश्यकता की पूर्ति से।   

  

3. जब कुल उपयोगिता अधिकतम होती है तब सीमांत उपयोगिता -

A. धनात्मक होती है   

B. शून्य होती है    

C. ऋणात्मक होती  

D.  उपरोक्त सभी

उत्तरB. शून्य होती है    


4. किसी वस्तु की मानवीय आवश्यकताओं की पूर्ति की क्षमता को कहते हैं

A. उत्पादकता    

B.  उपयोगिता    

C.  लाभदायकता।   

D.  कोई नहीं

उत्तर-   B.  उपयोगिता   


5. ऐसी वस्तुएं जिनका एक दूसरे के बदले प्रयोग किया जाता है कहलाती है।

A. पूरक वस्तुएं     

B.  स्थानापन्न वस्तुएं    

C. आरामदायक   

D.  वस्तुएं कोई नहीं

उत्तर-   B.  स्थानापन्न वस्तुएं   


6 मांग का नियम है -

A. गुणात्मक कथन      

B.  मात्रात्मक कथन   

C.  तथा दोनों     

D. कोई नहीं।

उत्तर- A. गुणात्मक कथन 


7. कॉफी के मूल्य में वृद्धि चाय की मांग -

A. बढ़ती है      

B. घटती है    

C. स्थर रहती हैं     

D. इनमें से कोई नहीं

उत्तर-  A. बढ़ती है


 रिक्त स्थान

1. उपयोगिता का अर्थ आवश्यकता......... की शक्ति का होना।        

पूर्ति

2. कुल उपयोगिता .......उपयोगिताओं का योग होती है।      

सीमांत

3. गिफिन वस्तुओं के लिए मांग की लोच .........सकती है        

निम्नस्तरीय

4. उंची तटस्थता वक्र दर्शाती है ..........स्तर की संतुष्टि।        

उच्च

5. मांग का नियम .......कथन है।     

गुणात्मक

6. मांग की लोच की......... श्रेणियां है      

5


एक शब्द/ वाक्य

1. बजट रेखा का दूसरा नाम क्या है?  

कीमत रखा

2. जब सीमांत उपयोगिता शून्य होती है ।तब कुल उपयोगिता क्या होगी।   

अधिकतम

3. मांग की कीमत लोच कितने प्रकार की होती है।    

5

4. गिफिन वस्तुओं के लिए मांग की लोच कैसी होती है     

 कम

5. किसी वस्तु की मानवीय आवश्यकता की पूर्ति की क्षमता को क्या कहते हैं  

उपयोगिता

6. किसी वस्तु की मांग एवं कीमत में किस प्रकार का संबंध होता है  

विपरीत

7. किस प्रकार की वस्तुओं की मांग लोचदार होती है।  

 विलासिता की वस्तुएं


सत्य असत्य बताइए

1. उपयोगिता की माप की जा सकती है।   

सत्य

2. कॉफी के मूल्य में वृद्धि होने से चाय की मांग कम हो जाती है।    

असत्य

3. ऐसी वस्तुएं जिनका एक दूसरे के बदले प्रयोग किया जाता है पूरक वस्तुएं कहलाती है   

असत्य

4. उपयोगिता व्यक्तिगत होती है   

सत्य

5. उपयोगिता को मुद्रा से नहीं मापा जा सकता   

असत्य

6. मानवीय आवश्यकताओं को संतुष्ट करने की क्षमता ही उपयोगिता है।   

सत्य

7. गिफिन वस्तुओं पर मांग का नियम लागू होता है   

असत्य

8. दो  अनधिमान या तटस्थता (उदासीनता) वक्र एक दूसरे को काटते हैं   

असत्य


सही जोड़ियां

1. मांग का नियम        कीमत तथा मांग में वितरित संबंध

2. पूरक वस्तुएं          कार तथा पेट्रोल

3. स्थानापन्न वस्तुएं        चाय तथा कॉफी


3 अंक का 2 प्रश्न

1 प्रश्न- उपयोगिता की तीन विशेषताएं।

उपयोगिता की विशेषताएं

✍️1. उपयोगिता एक मनोवैज्ञानिक धारणा है :- उपयोगिता का कम या अधिक होना उपभोक्ता के मानसिक दशा पर निर्भर करता है।

✍️2. उपयोगिता व्यक्तिनिष्ठ होती है :- एक ही वस्तु या सेवा से अलग-अलग व्यक्तियों को अलग-अलग उपयोगिता प्राप्त हो सकती हैं अर्थात उपयोगिता व्यक्ति निष्ठ होती है

✍️3. उपयोगिता सापेक्षिक होती है :-समय और स्थान के अनुसार उपयोगिता में परिवर्तन जाता है।


2 प्रश्न- मांग का नियम तालिका था चित्र की सहायता से समझाइए

उत्तर - प्रोफेसर मार्शल के अनुसार  - "यदि अन्य बातें समान रहे तो किसी वस्तु के मूल्य कम होने पर उसकी मांग बढ़ जाती है और मूल्य अधिक होने पर उसकी मांग कम हो जाती है।" मांग का नियम वस्तु की कीमत और वस्तु की मांगी जाने वाली मात्रा में विपरीत संबंध को बताता है।

मांग के नियम की सचित्र व्याख्या


मांग का नियम वस्तु की कीमत और उस वस्तु की मांगी जाने वाली मात्रा के गुणात्मक संबंध को बताता है। अर्थात वस्तु की कीमत में परिवर्तन के फल स्वरुप उसकी मांगी जाने वाली मात्रा की दिशा में परिवर्तन को बताता है।


3 प्रश्न- स्थानापन्न पर वस्तुएं क्या है? उदाहरण सहित समझाइए।

उत्तर - स्थानापन्न वस्तुएं वे वस्तुएं हैं जो एक दूसरे के स्थान पर एक ही उद्देश्य के लिए प्रयोग की जा सकती है।

उदाहरण के लिए चाय- कॉफी, गुड़ -शक्कर, मैंगो जूस- ऑरेंज जूस आदि।

"अन्य बातें समान रहने पर एक वस्तु के मूल्य में परिवर्तन होने के परिणाम स्वरूप दूसरी वस्तु की मांग में सीधा परिवर्तन होगा जबकि दूसरी वस्तु की कीमत स्थिर रहती है।" अर्थात एक वस्तु की कीमत और दूसरी वस्तु की मांग में सीधा संबंध होता है।


4 प्रश्न- पूरक वस्तुएं क्या है? उदाहरण सहित समझाइए

उत्तर- पूरक वस्तुएं वे वस्तुएं हैं जो एक साथ प्रयोग में लाई जा सकती है। जैसे- कार- पैट्रोल ,पेन- स्याही आदि।

"अन्य बातें समान रहने पर एक वस्तु के मूल्य में परिवर्तन होने पर दूसरी वस्तु की मांग में विपरीत परिवर्तन होगा।" अर्थात पेट्रोल के मूल्य में वृद्धि पर कार की मांग कम हो होगी।

इसे एक उदाहरण से समझे - पेट्रोल की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि होने पर कार की मांग कम हो जाएगी, क्योंकि कार एवं पेट्रोल एक दूसरे के पूरक हैं। एक वस्तु की कीमत यहां दूसरी वस्तु की मांग को प्रभावित कर रही है।


5 प्रश्न-िमान(उदासीनता तटस्थता) वक्रों की तीन विशेषताएं लिखिए

ANS.

6 प्रश्न-उपभोक्ता के बजट सेट से आप क्या समझते हैं?

उत्तर- उपभोक्ता के बजट सेट सभी बंडलों (संयोगों) का संग्रह है जिसे उपभोक्ता विद्यमान बाजार कीमतों पर अपनी आय से खरीद सकता है।


4 अंक का 1 प्रश्न

1 प्रश्न-ह्रासमान उपयोगिता नियम को सचित्र समझाइए(उपयोगिता ह्रासमान नियम)

ANS.

2 प्रश्न-मांग की कीमत लोच की विभिन्न श्रेणियों की व्याख्या कीजिए।

उत्तर - मांग की लोच या मांग की कीमत लोच का अर्थ -

मांग की कीमत लोच किसी वस्तु की कीमत में होने वाले प्रतिशत परिवर्तन के परिणाम स्वरुप उस वस्तु की मांग में होने वाले प्रतिशत परिवर्तन का अनुपात बताती हैं।

मांग की कीमत लोच की श्रेणियां या प्रकार

1. सापेक्षत: लोचदार मांग ( e > 1 ) इकाई से अधिक लोचदार    

2. सापेक्षत: बेलोचदार मांग ( e < 1 ) इकाई से कम लोचदार

 3. इकाई लोचदार मांग ( e = 1 ) इकाई के बराबर लोचदार       

4. पूर्ण बेलोचदार मांग ( e = 0 ) शून्य लोचदार

5. पूर्ण लोचदार मांग ( e = °° ) अनंत लोचदार


3 प्रश्न- कुल उपयोगिता तथा सीमांत उपयोगिता में संबंध बताइए

ANS. 

4 प्रश्न-मांग की कीमत लोच को प्रभावित करने वाले तत्व लिखिए।

मांग की लोच को प्रभावित करने वाले प्रमुख तत्व / घटक / कारक

उत्तर- मांग की लोच को प्रभावित करने वाले कारक निम्नलिखित है।

1. वस्तु की प्रकृति   

2. स्थानापन्न वस्तुओं की उपलब्धता   

3. वस्तु का प्रयोग

4. उपभोक्ता की आदत      

5. क्रेताओं का आय का स्तर

1. वस्तु की प्रकृति साधारणतया अनिवार्य वस्तुओं जैसे - नमक, मिट्टी का तेल, माचिस, पुस्तकें आदि की मांग बेलोचदार होती है | विलासिता की वस्तुओं जैसे TV, सोना की मांग लोचदार होती है।

2. स्थानापन्न वस्तुओं की उपलब्धता ऐसी वस्तुओं की मांग जिनके निकट स्थानापन्न जैसे चाय तथा कॉफी होते हैं उनकी मांग अधिक लोचदार होती है। जिन वस्तुओं के निकट स्थानापन्न जैसे- सिगरेट उपलब्ध नहीं होते उनके मांग अपेक्षाकृत कम लोचदार होती है।

3. वस्तु का प्रयोग जिन वस्तुओं का प्रयोग अनेक कार्यों में किया जा सकता है उनकी मांग की लोच अधिक लोचदार होती है। जैसे बिजली, कोयला बिजली की दरों में कमी आने पर इसका प्रयोग रोशनी, खाना बनाने कमरे को गर्म करने, टीवी चलाने, मशीन चलाने में किया जाता है। थोड़ी भी वृद्धि होने पर बिजली का प्रयोग अत्यंत आवश्यक कार्य में ही किया जाता है।

4. उपभोक्ताओं की आदत उपभोक्ताओं को जिन वस्तुओं की आदत पड़ जाती है उनकी मांग भी लोचदार होती है। जैसे सिगरेट तथा तंबाकू कर का भार अधिक होने पर भी सिगरेट तथा तंबाकू की मांग कम नहीं होती है।

5. केताओं का आय स्तर एक वस्तु की मांग की लोच इसके केताओं के आय स्तर पर भी निर्भर करती है। यदि किसी वस्तु के उपभोक्ता अधिक आय वाले होते हैं तो वे कीमत बढ़ने पर भी मांगी गई मात्रा में कमी नहीं करते। अरबपतियों द्वारा विलासिता पूर्ण कारों की मांग

                                   



 इकाई - 3

               

उत्पादन तथा लागत

वस्तुनिष्ठ 4 अंक - 4 प्रश्न                          2 अंक का 1 प्रश्न         4 अंक का 1 प्रश्न


प्रश्न 1 सही विकल्प चुनिए-

1 उत्पादन फलन में उत्पादन किसका फलन है-

() कीमत का      

()  उत्पत्ति के साधनो           

() कुल यह का              

()  इनमें से कोई नहीं

 उत्तर-1.  ()  उत्पत्ति के साधनो का।


2 अल्पकालीन उत्पादन फलन की व्याख्या निन्नलिखित में से किस नियम द्वारा की जाती है-

() मांग के नियम से   

 ()  परिवर्तनशील अनुपातो के नियम द्वारा

() पैमाने के प्रतिफल नियम द्वारा  

() मांग की लोच द्वारा

उत्तर-2. ()  परिवर्तनशील अनुपातो के नियम द्वारा।


3 दीर्घकाली उत्पादन फलन का संबंध निम्न में से किससे है-

() मांग के नियम से   

() उत्पत्ति वृद्धि नियम से

() पैमाने के प्रतिफल नियम द्वारा 

() मांग की लोच द्वारा

उत्तर-3. () पैमाने के प्रतिफल नियम द्वारा।


4 उत्पादन के साधन है-

() भूमि          

() श्रम          

() पूंजी          

() उपरोक्त सभी

उत्तर-4. () उपरोक्त सभी।


5 उत्पत्ति ह्रास नियम लागू होने का मुख्य कारण कौन सा है-

() साधनों की सीमितता

()साधनों का अपूर्ण स्थानापन्न होना

() तथा दोनों

()इन ने से कोई नहींं

उत्तर-5. () साधनों की सीमितता


प्रश्न 2 रिक्त स्थान भरिए-

1 आप कालीन उत्पादन फलन को.......... कहा जाता है।

 उत्तर-1 सीमांत

2 पैमाने के प्रतिफलों को संबंध............ काल की अवधि से है।

उत्तर-2 परिवर्तनशील

3 उत्पादन की प्रति इकाई लागत को............. लागत कहते हैं।

उत्तर-3 औसत

4 कुल परिवर्तनशील लागत = कुल लागत (-)...........

उत्तर-4 कुल स्थिर लागत


प्रश्न 3 सही जोड़ियां बनाइए-

           खण्ड                                               खण्ड

1. परिवर्ती अनुपात नियम।                     () कम से कम एक कारक में परिवर्तन परिवर्तन परिवर्तन परिवर्तन परिवर्तन परिवर्तन                                     

2. पैमाने का प्रतिफल।                            () दीर्घकाल से संबंधित

3. उत्पादन फलन।                                  () आगतो तथा निर्गातो के बीच

                                                                     संबंध


प्रश्न 4 एक शब्द/वाक्य में उत्तर दीजिए-


1. अल्पकालीन उत्पादन फलन को क्या कहा जाता है?

उत्तर- परिवर्तनशील।

2. उत्पादन के चार साधनों के नाम लिखिए-

त्तर- भूमि , पूंजी , श्रम , साहस।

3. स्थिर लागत का दूसरा नाम क्या है?

उत्तर- दीर्घकालीन लागते।


2 अंक का 1 प्रश्न     

1 प्रश्न-उत्पादन फलन किसे कहते हैं?

उत्तर - एक फर्म का उत्पादन फलन उपयोग में लाए गए आगतों( साधनों )तथा फर्म द्वारा उत्पादित निर्गतओं (वस्तु की उत्पादित मात्रा) के मध्य फलनात्मक संबंध को व्यक्त करता है उत्पादन फलन Qx = f(A,B,C,D)

Qx = X वस्तु का भौतिक उत्पादन( निर्गत ) Outputs A,B,C,D उत्पत्ति के साधन (आगत)

वाटसन :- "एक फर्म भौतिक उत्पादन और उत्पादन के भौतिक साधनों के संबंध को उत्पादन फलन कहा जाता है।"


2 प्रश्न-पैमाने के प्रतिफल किसे कहते हैं?

उत्तर - पैमाने के प्रतिफल का नियम -

दीर्घकाल में उत्पादन के साधनों में समान अनुपात में वृद्धि करने पर उत्पादन किस अनुपात में बढ़ता है यही पैमाने के प्रतिफल का नियम बताता है।

अर्थात दिर्घकाल में पैमाने के प्रतिफल सभी साधनों में समान अनुपात में होने वाले परिवर्तनों के फलस्वरूप कुल उत्पादन में होने वाले परिवर्तन से है।


3 प्रश्न-स्थिर लागत किसे कहते हैं?

उत्तर - स्थिर साधनों को दिया जाने वाला पारितोषिक व्यय स्थिर लागत होता है। यह व्यय अनिवार्य वह होता है जैसे :- भूमि को किराया, मशीन की लागत ,चौकीदार का वेतन आदि।


4 प्रश्न-परिवर्तनशील लागत का अर्थ लिखिए।

उत्तर - परिवर्तनशील साधनों को दिए जाने वाला पारितोषिक व्यय परिवर्तनशील लागत कहलाता है जैसे कच्चा माल , बिजली बिल , परिवहन आदि


4 अंक का 1 प्रश्न

1 प्रश्न-पैमाने के प्रतिफल एवं परिवर्ती अनुपात के नियम में अंतर स्पष्ट कीजिए

ANS. 

2 प्रश्न-ह्रासमान सीमांत उत्पादन नियम या परिवर्ती अनुपात नियम को चित्र द्वारा समझाइए (उत्पत्ति ह्रास नियम लिखना है)

उत्तर - परिवर्तनशील अनुपात का नियम अल्पकाल से संबंधित है ।अल्पकाल में अन्य साधनों की मात्रा को स्थिर रखकर जब किसी एक साधन की मात्रा में वृद्धि की जाती है तो उत्पादन की तीन अवस्थाएं प्राप्त होती है।

 प्रथम अवस्था में उत्पत्ति वृद्धि नियम क्रियाशील रहता है। जिसमें सीमांत उत्पादन तेजी से बढ़ता है

दूसरी अवस्था को उत्पत्ति स्थिर( समता )नियम कहा जाता है जिसमें सीमांत उत्पादन बढ़ता है मगर घटती दर से।

 तृतीय अवस्था को उत्पत्ति ह्रास नियम भी कहा जाता है जिसमें सीमांत उत्पादन mp ऋणात्मक हो जाती हैं।

चित्रद्वारा प्रदर्शन


3. स्थिर लागत एवं परिवर्तनशील लागत में अंतर लिखिए

उत्तर      अंतर


✍️1. इसका संबंध उत्पादन के स्थिर साधनों से होता है

इसका संबंध उत्पादन के परिवर्तनशील साधनों से होता है।


✍️2. इसका संबंध अल्पकाल अवधि से है

इसका संबंध दीर्घकाल अवधि से है।


✍️3. उत्पादन की मात्रा में परिवर्तन का स्थिर लागतो पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता

उत्पादन की मात्रा में परिवर्तन होने पर परिवर्तनशील लागते भी परिवर्तित हो जाती है।


✍️4. उत्पादन स्तर के शून्य होने पर भी कुल स्थिर लागत अपरिवर्तित रहती हैं।

उत्पादन शून्य होने पर अल्पकाल में परिवर्तनशील लागते भी शुन्य हो जाती है।


✍️5. स्थिर लागते कुल लागत में से परिवर्तनशील लागत को घटाने पर प्राप्त होती है।

परिवर्तनशील लागत है कुल लागत में से स्थिर लागत को घटाने पर प्राप्त होती है।

                                      

इकाई - 4

                                           

पूर्ण प्रतिस्पर्धा की स्थिति में फर्म का सिद्धांत

वस्तुनिष्ठ 2 अंक - 2 प्रश्न                          3 अंक का 1 प्रश्न  

 

 3 अंक का 1 प्रश्न   

1 प्रश्न-पूर्ण प्रतिस्पर्धा (पूर्ण प्रतियोगिता) की तीन विशेषताएं लिखिए

पूर्ण प्रतियोगिता की दशाएं / विशेषताएं

1. फर्म या विक्रेताओं की अधिक संख्या - किसी वस्तु को बेचने वाले विक्रेताओं की संख्या इतनी अधिक होती है , कि कोई अकेली फार्म वस्तु की कीमत को प्रभावित नहीं कर सकती

2.पूर्ण ज्ञान - क्रेता और विक्रेताओं को बाजार में प्रचलित कीमत की पूरी जानकारी होती है क्रेता को इस बात का पूर्ण ज्ञान होता है कि भिन्न - भिन्न विक्रेता वस्तुओं को किस कीमत पर बेच रहे हैं

3. वस्तुओं का समरूप होना - पूर्ण प्रतियोगिता की महत्वपूर्ण विशेषता यह है , कि विभिन्न फर्म द्वारा उत्पादित वस्तुओं में समरूपता का गुण होता है उत्पादन में समरूपता होने के कारण विक्रेता बाजार में प्रचलित मूल्य से अधिक कीमत नहीं ले सकेगा , क्योंकि क्रेता दूसरे विक्रेताओं से वस्तुएं खरीद लेंगे


2 प्रश्न- पूर्ति के नियम को चित्र द्वारा समझाइए

पूर्ति का नियम

अन्य बातें स्थिर रहते हुए किसी वस्तु की कीमत में वृद्धि होने पर उसकी पूर्ति में भी वृद्धि होती है तथा कीमत में कमी होने पर उसकी पूर्ति में भी कमी होती है। इसे पूर्ति का नियम कहते हैं ।वस्तु की कीमत तथा वस्तु की पूर्ति मैं सीधा या धनात्मक संबंध होता है।

चित्र-


3 प्रश्न- पूर्ति की लोच को कौन कौन से घटक /कारक/ तत्व प्रभावित या निर्धारित करते हैं?

पूर्ति को प्रभावित करने वाले तत्व निम्नलिखित हैं-

1. वस्तु की कीमत -वस्तु की कीमत भी वस्तु की पूर्ति को प्रभावित करती है ऊंची कीमतों पर पूर्ति अधिक कम कीमत पर पूर्ति कम होती है।

2.अन्य संबंधित वस्तुओं की कीमत- स्थानापन्न एवं पूरक वस्तुओं की कीमतों में परिवर्तन का वस्तु की पूर्ति पर प्रभाव पड़ता है।

3.उत्पादन के साधनों की कीमत -वस्तु की पूर्ति उत्पादन के साधनों की कीमत को प्रभावित करती है।

4. तकनीकी ज्ञान- तकनीकी ज्ञान से वस्तु की पूर्ति में वृद्धि होती है।

5. शासकीय नीति - करों में वृद्धि वस्तु की पूर्ति में कमी लाती है जबकि करों में कमी से वस्तु की पूर्ति में वृद्धि होती है।

6.भविष्य में कीमतों में परिवर्तन की संभावना- भविष्य में वस्तु की किंतु में होने वाले परिवर्तनों की संभावना भी वस्तु की पूर्ति को प्रभावित करती है।

                                                                     

इकाई - 5

                                                                 

बाजार संतुलन

वस्तुनिष्ठ 2 अंक - 2 प्रश्न                          2 अंक का 2 प्रश्न      


2 अंक का 2 प्रश्न    

1 प्रश्न- बाजार का अर्थ लिखिए

अर्थशास्त्र में बाजार की परिभाषा में क्रेता और विक्रेताओं को भौतिक रूप से एक स्थान पर उपस्थित होना अनिवार्य नहीं है। आधुनिक समय में वस्तुओं सेवाओं का क्रय विक्रय विभिन्न संचार माध्यमों से सौदेबाजी से परस्पर स्वीकार कीमत पर संपन्न हो जाता है।


2 प्रश्न- संतुलित कीमत किसे कहते हैं?

उत्तर - संतुलन कीमत वह कीमत है जो मांग एवं पूर्ति की शक्तियों द्वारा उस बिंदु पर निर्धारित होती है जहां वस्तु की मांग और पूर्ति आपस में बराबर हो जाते हैं।


3 प्रश्न- उच्चतम निर्धारित कीमत किसे कहते हैं ? (कीमत उच्चतम सीमा price ceiling limit)

किसी वस्तु या सेवा की सरकार द्वारा निर्धारित कीमत की ऊपरी सीमा को उच्चतम निर्धारित कीमत कहते हैं? अर्थात कीमत की है उच्चतम सीमा उस कीमत को बताती है जिसे विक्रेता सरकारी हस्तक्षेप होने पर अधिकतम कीमत के रूप में प्राप्त कर सकता है।


4 प्रश्न- निम्नतम निर्धारित कीमत किसे कहते हैं?

उत्तर- न्यूनतम कीमत से अभिप्राय किसी वस्तु की न्यूनतम कीमत से जिसे सरकार के द्वारा निर्धारित किया जाता है

किसी वस्तु या सेवा की सरकार के द्वारा निर्धारित न्यूनतम सीमा को कीमत पर न्यूनतम निर्धारित कीमत कहते हैं।


5 प्रश्न- बाजार में किसी वस्तु के लिए अधि मांग का अर्थ लिखिए

अधिमांग से तात्पर्य वस्तु की मांग का उसकी पूर्ति से अधिक होना ही अधिमांग कहलाता है यदि वस्तु की विशेष कीमत पर बाजार मांग उसकी बाजार पूर्ति से अधिक है तो उसे कीमत या बाजार में अभिमांग कहते है।


6 प्रश्न- बाजार में किसी वस्तु के लिए अधि पूर्ति का अर्थ लिखिए  OR अधिपूर्ति किसे कहते हैं?

अधिपूर्ति से तात्पर्य यदि किसी कीमत विशेष पर बाजार पूर्ति उसकी बाजार मांग से अधिक है, तो उसे उस कीमत पर बाजार में अधिपूर्ति कहा जाता है।


7 प्रश्न- बाजार मूल्य निर्धारण या बाजार कीमत क्या है ? OR बाजार मूल्य क्या है?

बाजार मूल्य अल्पकालीन मूल्य होता है जो अल्पकाल में मांग एवं पूर्ति के अस्थाई संतुलन द्वारा निर्धारित होता है। बाजार मूल्य निर्धारण में पूर्ति की अपेक्षा मांग अधिक प्रभावी होती है।


8 प्रश्न- सामान्य मूल्य निर्धारण या सामान्य कीमत क्या है? या सामान्य